कलानिधि पुस्तकों, पांडुलिपियों और दृश्य-सामग्री का संदर्भ पुस्तकालय

मानविकी और कला-रूपों में शोध और संदर्भ सामग्री के भंडार को ही कलानिधि का नाम दिया गया है। इस उपक्रम के अधीन स्रोत सामग्री का विशाल भंडार तैयार किया गया है जिसमें मूलपाठ विषयक, दृश्यअ और श्रृव्यक डेटा अपने समग्र विस्ता र में उपलब्ध है। इंदिरा गॉंधी राष्ट्रीदय कला केन्द्रक के भीतर ही कलानिधि में कला-कोश द्वारा शुरू किए जाने वाले मूलपाठ विषयक शोध के लिए; जनपद संपदा द्वारा किए जाने वाले जीवन-शैली अध्यियनों के बारे में प्रासंगिक शोध के लिए और इनके परिणाम-स्वररूप प्राप्ति ज्ञान का प्रसार कला-दर्शन एवं सांस्कृदतिक सूचना-विज्ञान प्रयोगशाला के माध्यनम से करने के लिए सूचना सहायता सेवा प्रदान की जाती है।

मानविकी तथा कला-रूपों से संबंधित संदर्भ सामग्री के प्रमुख भंडार के रूप में, इसमें मल्टीकमीडिया डेटाबेस तथा सूचना-प्रणालियों की सुविधा सहित, उत्कृ्ष्टस संदर्भ पुस्तकालय तथा उतना ही समृद्ध सांस्कृतिक अभिलेखागार मौजूद है।

कलानिधि के संदर्भ पुस्तकालय में पुरातत्व, मानव-विज्ञान, कला-इतिहास, कला-शास्त्र्, शिल्पे, मानवजाति-विज्ञान, इतिहास, भाषा-विज्ञान, साहित्येक अध्य्यन, धर्म तथा समाज-विज्ञान से संबंधित सामग्री का समृद्ध भंडार उपलब्धि है। इस संग्रह में मुद्रित ग्रंथ (18वीं और 19वीं शताब्दी की 3000 दुर्लभ पुस्तकों सहित 1,75,000 पुस्तकें), जर्नल, स्ला-इडें, माइक्रोफिल्मेंन, माइक्रोफिश, पांडुलिपियां, फोटोग्राफ और श्रृव्यर-दृष्य8 सामग्री शामिल है। अवाप्ति और दान के माध्यरम से पुस्तकालय में प्रोफेसर सुनीति कुमार चटर्जी, आचार्य डॉ. हजारी प्रसाद द्विवेदी, आनंद केंटिश कुमारस्वा्मी जैसे पंडितों और अन्यन महानुभावों के निजी संग्रह भी तैयार किए गए हैं। दक्षिण एशिया, दक्षिण-पूर्व एशिया, पूर्वी एशिया और यूरेशिया के बारे में क्षेत्रीय संग्रह भी पुस्तकालय में उपलब्धद हैं।

सांस्कृतिक अभिलेखागार: कलानिधि के सांस्कृभतिक अभिलेखागार में कला-रूपों और संस्कृंति से जुड़ी अनेक दुर्लभ, मूल और गौड़ सामग्रियों का संग्रहण, संरक्षण, वर्गीकरण तथा प्रसार किया गया है। सांस्कृितिक अभिलेखागार में अवाप्तिस का कार्य साहित्या, वास्तु्कला, शिल्पभ, छायापट, संगीत, नृत्यग की श्रेणियों के अंतर्गत किया जाता है। मानवजाति-शास्त्रग के कुछ दुर्लभ संग्रह और पुराने कला-मर्मज्ञों के श्रृव्य –दृश्या प्रलेखन के साथ-साथ कुछ दुर्लभ कला-रूप भी सांस्कृोतिक अभिलेखागार में सुरक्षित हैं। अन्य् सामग्री के अलावा इन कला-रूपों में शामिल हैं- डॉ. आर.सी. रांग्रा के ऑडियो कैसेट, श्री रवीन्द्रगनाथ टैगोर की रिकॉर्डिंग्स, राजा दीन दयाल के मूल फोटोग्राफ और प्लेेटें, शंभू साहा, सुनील जाना और हेनरी कार्टियर ब्रैसन के फोटोग्राफ, एलिज़ाबेथ और एलिज़ाबेथ जॅस ब्रूनर के छायापट, आर.पी. मिश्रा के दुर्लभ मानचित्र और भारत एवं विश्वब के विभिन्नर भागों से एकत्र किए गए वाद्ययंत्र, पुतलियां और मुखौटे।

एबीआईए परियोजना: दक्षिण एवं दक्षिण-पूर्व एशियाई कला एवं पुरातत्व इंडेक्स/ की एबीआईए परियोजना में सहभागी के रूप में कलानिधि का जुड़ाव है। इस का उद्देश्यड है कि प्रकाशकों के लिए एक सटीक संदर्भिका डेटाबेस (एबीआईए इंडेक्सव) तैयार किया जाए जिसमें प्राक् एवं आदि इतिहास, ऐतिहासिक पुरातत्वज, प्राचीन एवं आधुनिक कलावृत्ति, भौतिक संस्कृहति, पुरालेख-शास्त्रो और मुद्रा-शास्त्रु जैसे विषय शामिल हों। यह डेटाबेस ऑनलाइन http://www.abia.net पर सर्व-सुलभ है। अब तक तीन खंड प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें 5500 से अधिक सटीक एवं प्रमुख शब्दह-आधारित सूचीकृत संदर्भ दिए गए हैं।

डेटाबेस का विकास और कम्प्यूटरीकरण: कला निधि में एक ऐसा कैटलॉग डेटाबेस तैयार किया गया है जिसमें उपलब्धट समस्त् सामग्री सूचीबद्ध है। यह डेटाबेस ऑनलाइन पब्लिैक एक्सेजस डेटाबेस (ओपैक) के रूप में उपलब्धि है।

प्रलेखन इकाई: कलानिधि की प्रलेखन इकाई को फिर से सक्रिय किया गया है। इस इकाई का प्राथमिक उद्देश्यर है कि इंदिरा गॉंधी राष्ट्रीफय कला केन्द्र द्वारा आयोजित किए जाने वाले सभी शैक्षणिक कार्यक्रमों और आयोजनों से जुड़ी समस्त सामग्री को संग्रहीत और संरक्षित किया जाए और इसके माध्यंम से एक भरोसेमंद संस्था‍गत स्मृति-भंडार तैयार किया जाए। कलानिधि प्रभाग द्वारा आयोजित किए जाने वाले विभिन्नं कार्यक्रमों और आयोजनों के बारे में एक संक्षिप्तज लेख भी इस इकाई द्वारा तैयार किया जाता है। यह इकाई, इंदिरा गॉंधी राष्ट्री य कला केन्द्रभ की वैबसाइट को अद्यतन बनाए रखने के लिए और द्विमासिक समाचार बुलेटिन प्रकाशित करने के लिए विषय-सामग्री भी उपलब्ध कराती है।

पुस्तकालय की सदस्यता कलानिधि पुस्तकालय के पंजीकृत सदस्यों के लिए पुस्तंकालय में उपलब्ध सभी संसाधन सुलभ हैं। सदस्यकता का विवरण नीचे दिया गया है-
एक सप्ता‍ह के लिए: नि:शुल्क
अस्था्यी सदस्यता : 100/- रुपया प्रतिमाह
वार्षिक सदस्याता: विद्यार्थियों के लिए 250/- रुपए; नवीकरण शुल्कर- 150/- रुपए
विद्यार्थियों से इतर के लिए 500/- रुपए; नवीकरण
शुल्का- 300/- रुपए
आजीवन सदस्यता: एकमुश्त 5000/- रुपए के भुगतान पर
उपलब्ध सुविधाएं: संदर्भ/परामर्श/इंटरनेट/रंगीन फोटोकॉपी सहित
फोटोकॉपी/माइक्रोफिल्म/-माइक्रोफिश पठन/डिजिटल प्रेक्षण/श्रृव्य –
दृश्यॉ सामग्री/डिजिटल इमेजिंग/मुद्रण
निदेशक (पुस्तकालय और सूचना) एवं कलानिधि के विभाग-प्रमुख: डॉ. पी.आर.गोस्वापमी
फोन नं. 91-11-23388333/23388362/23388073
ई मेल: prgoswami@hotmail.com