kp_017

Shree Ramayan: Mahanveshnam

Rs.350.00

Edited By :M. Virappa Moili, Dr. Pradhan Gurudatt
ISBN : 978-81-267-1679-1
2008, xv+418pp
Rs.350.00
Categories: , ,

Product Description

धर्म वही शाश्वत होता है जो समय की समस्याओं का निदान करने में सक्षम हो। पुराण कथाओं में समय की सारी समस्याओं का समाधान निहित होता है इसलिए पुराण “धर्म-ग्रन्थ” कहे गए हैं। वे समय की सीमाओं को लाँघकर, सैकड़ों पीढ़ियों तक दोहराए जाते हैं।…Read More


Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Shree Ramayan: Mahanveshnam”