सूचना एवं डेटा बैंक

info_dbइंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केन्द्र को भारत सरकार ने कला, मानविकी और सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े सभी मामलों में नोडल एजेंसी के रूप में नामित किया है। केन्द्र का दायित्व है कि कला तथा सांस्कृतिक परंपरा के सभी पहलुओं के बारे में सूचना के कंप्यूटरीकृत भंडारण, पुनर्प्राप्ति और प्रसार की व्यवस्था करे। पिछले वर्षों में, इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केन्द्र ने विभिन्न रूपों में प्रसारित हमारी बृहत् सांस्कृतिक विरासत की संरक्षा करने और अनुसंधान तथा प्रसार के लिए उसे सुलभ बनाने के प्रयोजन से अनेक अनूठे कंप्यूकटरीकृत मल्टीमीडिया डेटाबेस तथा सूचना प्रणालियां विकसित की हैं। ऐसे विशेष प्रयास किए गए हैं कि इन कार्यक्रमों की नेटवर्किंग देश के भीतर और बाहर काम कर रहे विभिन्न संस्थानों के साथ की जाए।
ये कार्यक्रम इस प्रकार हैं:
  • एलएमआईएस (पुस्तकालय प्रबंधन और सूचना प्रणाली) जिसमें यहां उपलब्ध सभी पुस्तकों और पत्रिकाओं के बारे में कैटलॉग सूचना प्रदान की जाती है;
  • कैटकैट (कैटलॉगों का कैटलॉग) जिसमें प्रकाशित/अप्रकाशित पांडुलिपियों की 1000 से अधिक पुस्त क-सूचियों के बारे में सूचना प्रदान की जाती है;
  • एमएएनयूएस (पांडुलिपियाँ) जिसमें लगभग 3,000 पांडुलिपियों के बारे में पूरी तरह वर्णनात्मक जानकारी दी जाती है;
  • पिक्टों (कलाकृतियाँ) जिसमें द्वि-आयामी और त्रि-आयामी कला-कृतियों के बारे में जानकारी शामिल है;
  • साउंड (साउंड रिकॉर्डिंग्स) जिसमें सामवेद की राणायनीय और जैमिनीय शाखाओं में और अथर्ववेद की पिप्पालाद शाखा में वैदिक गायन की परंपरा के बारे में जानकारी समाविष्टन है;
  • केके टर्म्ज (कलाकोश पदावली) जिसमें कलातत्वककोश परियोजना से जुड़े पारिभाषिक शब्दश शामिल हैं और जिनके माध्यपम से प्रत्येंक शब्दव के लिए व्याेपक पाठ संदर्भ, ग्रंथसूचियों के संदर्भों तथा उद्धरणों का सत्याधपन तथा भिन्न्-भिन्नक पाठों में दिए गए पारिभाषिक शब्दों का प्रमाणन करने में शोध-छात्रों की मदद की जाती है;
  • बीआईबीएल (बिबलियोग्राफी) जिसमें 6000 से अधिक संदर्भों, मोनोग्राफों, पुस्तषकों, पत्रिकाओं, आलेखों, आदि के बारे में सूचना दी गई है;
  • थिसो (थिसॉरस) जिसमें पंच तत्वों से संबंधित सजातीय पदों की पहचान के लिए जनजातीय भाषाओं और बोलियों में प्रचलित प्रमुख शब्द शामिल हैं। यह डेटा-बेस जनपदसंपदा से जुड़े कार्यक्रमों के लिए विकसित किया गया है।